त्राटक (एकटक देखना)

त्राटक (एकटक देखना)

 



त्राटक एक भ्रामक सरल लेकिन शक्तिशाली अभ्यास हैं। त्राटक का मतलब हैं एक निश्चित बिन्दु पर एकटक देखना। यह अभ्यास दो प्रकार से होता हैं एक “बहिरंग या बाहरी त्राटक” और दुसरा “अंतरंग या आंतरिक त्राटक”।

 

बहिरंग त्राटक आसान हैं क्योंकि इसमें किसी बिन्दु पर नजर रखना पड़ता हैं हालांकि अंतरंग त्राटक में किसी वस्तु को स्पष्ट देखना या आंतरिक दृश्य शामिल होते हैं।



त्राटक के अभ्यास में एक वस्तु तब तक चकित होती हैं,जब तक कि सूक्ष्म रूप बंद आंखों के सामने प्रकट होता हैं। एकाग्रता का बिन्दु आमतौर पर एक प्रतिक या वस्तु हैं। जो आंतरिक क्षमता को सक्रिय करता हैं। और दिमाग अवशोषित कर सकता हैं। आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने बाली वस्तु जलता दिया या मोमबत्ती होती हैं। क्योंकि आंखें बंद होने के बाद भी इसका प्रभाव कुछ समय तक रहता हैं।और फिर अंतरंग त्राटक आसानी से किया जा सकता हैं। बाहरी वस्तु पर आंखों पर ध्यान केन्द्रित करना का उद्देश्य आंतरिक दृष्टि को जागृत करना और आंखों की गतिविधियों को रोककर इसे स्थिर करना होता हैं।

 

त्राटक दिमाग पर ध्यान केन्द्रित करने और इसकी आवृतियों की प्रवृत्ति को रोकने की प्रक्रिया हैं। आंखों और दृष्टि के माध्यम से सम्पर्क और पहचान इस रिसाव के लिए प्रमुख योगदान हैं। इसके अलावा, आंखें लगातार बड़े गति (स्पंदन), या कपकपी में आगे बढ़ते हैं। यहां तक कि आंखे बाहरी वस्तु पर केन्द्रित होती तब भी इन सहज गति के कारण हमेशा उतार-चढ़ाव होता हैं। जब एक ही वस्तु को लगातार देखा जाता हैं तो मस्तिष्क आदि हो जाता हैं और जल्दी ही उस वस्तु को पंजीकृत करना बंद कर देता हैं। आदत एल्फा (α)तरंगों की वृद्धि के साथ मेल खाती हैं। जो बाहरी दुनिया में कम दृश्य ध्यान दर्शाती हैं। जब एल्फा (α) तरंगे उत्पन होती हैं तो यह इंगित करती हैं कि मस्तिष्क के विशेष क्षेत्रों ने काम करना बंद कर दिया हैं।

 

जब मस्तिष्क को भावनात्मक तरीकों से और संबंधित मानसिक प्रक्रियाओं, विचारों, यादों आदि से अलग किया जाता हैं या इनके प्रभाव को रोका जाता हैं तो आध्यात्मिक चेतना उभरती हैं।



क्रिस्टल बॉल, शिवलिंग, यंत्र एक सितारा, मौमवत्ती, दिए की लौ या अन्य कोई समान रूप से त्राटक के प्रतिक हैं। किसी बिन्दु पर भी त्राटक किया जा सकता हैं।

 

त्राटक का चयन करते समय सावधानी रखनी चाहिए। उदाहरण के लिए आप काली माँ के रूप का त्राटक कर सकते हैं तो आप अपने भीतर के होने के पहलू को जागृत करेंगें यदि आप इससे परे नहीं है तो आप काली माँ को भी प्रकट कर सकते हैं, लेकिन यह डरावना या भयभीत करने बाला अनुभव हो सकता हैं । प्रकाश की एक स्थिर लौ सबसे सुरक्षित व व्यावहारिक त्राटक हैं

 



त्राटक हमेशा किसी योग्य गुरू के मार्गदर्शन में ही करना चाहिए।

Spread the love
  • 13
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    13
    Shares