मणिपुर चक्र

मणिपुर चक्र

 

 

यह बहुत ही महत्वपूर्ण चक्र है इसके जाग्रत होने स्वादिष्ठान और हृदय चक्र भी जाग्रत हो जाता है

मणिपुर चक्र-नाभिचक्र

 

 

देवता

 

रूद्र ( मतान्तर से इंद्र, लक्ष्मी ) तीन आँखों वाले सरीर में विभूति सिंदूरी वर्ण
देवी- लाकिनी सब का उपकार करने वाली रंग काला वस्त्र पीले हैं देवी आभूषण से सजी अमृतपान के कारण आनंदमय हैं।

 

तत्व- अग्नि
रंग- पीला
बीज मंत्र- ‘ रं ‘

 

 

यह चक्र नाभि मूल, नाभि से थोड़ा ऊपर स्थित होता है। यह स्थल शरीर का केंद्र है, जहाँ से ऊर्जा का वितरण होता है। यह नाभि केंद्र के पास और रीढ़ की हड्डी के भीतर स्थित होता है। इसकी स्थिति मेरुदंड के भीतर समझनी चाहिए। यह अग्नि तत्व प्रधान चक्र है। जो नीलवर्ण वाले दस दलों के एक कमल के सामान है तथा मणि के सामान चमकने वाला है। मणिपुर चक्र के प्रत्येक दल पर बीजाक्षर हैं चक्र के मध्य में उगते सूर्य की प्रभा के सामान तेजस्वी त्रिकोण रूप अग्नि छेत्र है जिनकी तीन भुजाओं पर स्वस्तिक है।

 

 

जिस व्यक्ति की चेतना या ऊर्जा यहाँ एकत्रित है उसे काम करने की धुन सी सवार रहती है। ऐसे लोगों को कर्मयोगी कहते हैं। ये लोग दुनियां का हर कार्य करने के लिए तैयार रहते हैं।

 

 

इस चक्र के दूषित होने पर होने वाली बीमारियां

 

पाचन संबंधी रोग, पेस्टिक अल्सर, मधुमेह, रक्तशर्करा अल्पता, कब्ज, आंत्र-कृस्मृतिदोष, घबराहट आदि बीमारियां प्रकट होती हैं।

 

 

चक्र जागृत करने की विधि

 

आप के कार्य को सकारात्मक आयाम देने के लिए अग्नि मुद्रा में बैठें अनामिका ऊँगली को मोड़कर अंगुष्ठ के मूल में लगाएं अब इस चक्र पर ध्यान लगाएं। पेट से स्वास लें ।

 

प्रभाव

 

इसके सक्रीय होने से तृष्णा, ईर्ष्या, चुगली, लज्जा, भय, घृणा, मोह आदि कषाय-कल्मष दूर हो जाते हैं। यह चक्र मूल रूप से आत्मशक्ति प्रदान करता है। सिद्धियां प्राप्त करने के लिए आत्मवान का होना बहोत जरुरी है। आत्मवान होने के लिए यह अनुभव करना जरुरी है कि आप शरीर नहीं आत्मा हैं। आत्मशक्ति, आत्मबल, और आत्मसम्मान के साथ जीवन का कोई भी लक्ष्य दुर्लभ नहीं ।

 

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •